छत्तीसगढ़

कक्का ने सभी समाजों को अधिकार देकर एक कुशल और सफल शासक होने का परिचय दिया और राम राज्य की कल्पना को साकार करने का काम किया राजीव शर्मा


कक्का ने सभी समाजों को अधिकार देकर एक कुशल और सफल शासक होने का परिचय दिया और राम राज्य की कल्पना को साकार करने का काम किया राजीव शर्मा

जगदलपुर : राम राज्य की कल्पना की मूल अवधरणा में सभी के लिए न्याय की बात थी. जहां राजा सभी के कल्याण के लिए नीतियां बनाकर बराबरी सम्मान और प्रगति के लिए कार्य करता हो….

राम के आदर्शों पर चलते हुए भूपेश बघेल ने दो दिसंबर को न्याय और बराबरी की पहल कर जनता को उनका अधिकार दिला रहे हैं….

छत्तीसगढ़ के इतिहास में 02 दिसंबर मील का पत्थर साबित हुआ है….छत्तीसगढ़ का राजनीतिक निर्माण 1 नवंबर सन 2000 को जरूर किया गया, पर यहां की संपूर्ण जनता को उनका अधिकार 2 दिसंबर 2022 को मिला….

राज्य के संवेदनशील यशस्वी मुख्यमंत्री का छत्तीसगढ़ के विभिन्न जनजातियों के हक में विशेष सत्र में विधेयक पारित कर ऐतिहासिक निर्णय ने विपक्षी दलों की कर दी बोलती बंद आये बैकफुट पर….

कांग्रेस की भूपेश सरकार द्वारा विधानसभा के विशेष सत्र में विद्येयक पारित किये जाने पर सरकार के प्रति आभार व्यक्त कर इस ऐतिहासिक निर्णय का किया स्वागत….

जिलाध्यक्ष / इविप्रा उपाध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि राज्य के संवेदनशील यशस्वी लोकप्रिय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में हुई

कैबिनेट की बैठक में विधानसभा में संशोधित आरक्षण विधेयक प्रस्तुत करने की मंजूरी दी गई थी. इसके जरिए सरकार अनुसूचित जनजाति (ST) को 32%, अनुसूचित जाति (SC) को 13% और अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) को 27% आरक्षण देना तय किया है. वहीं सामान्य वर्ग के गरीबों (EWS) को 4% आरक्षण देने की बात कही जा रही है.

यह कांग्रेस की भूपेश सरकार का ऐतिहासिक निर्णय है श्री शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ वासियों को दिग्भ्रमित करने वाली भाजपा आई बैकफुट पर इतिहास गवाह है कांग्रेस ने जो कहा है सो किया है

कांग्रेस की भूपेश सरकार की लोकप्रियता उनके कार्यशैली से उस बुलंदियों पर पहुंच चुकी है जिसकी कल्पना भी नही की जा सकती।

छत्तीसगढ़ में सभी समाजों को अधिकार देकर भूपेश सरकार राम राज्य की कल्पना को साकार करने जा रही है. राम राज्य की कल्पना की मूल अवधरणा में सभी के लिए न्याय की बात थी.

जहां राजा सभी के कल्याण के लिए नीतियां बनाकर बराबरी सम्मान और प्रगति के लिए कार्य करता हो. राम के आदर्शों पर चलते हुए भूपेश बघेल ने दो दिसंबर को न्याय और बराबरी की पहल कर जनता को उनका अधिकार दिला रहे हैं।

शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ के इतिहास में 2 दिसंबर मील का पत्थर साबित हुआ है. छत्तीसगढ़ का राजनीतिक निर्माण 1 नवंबर सन 2000 को जरूर किया गया, पर यहां की संपूर्ण जनता को उनका अधिकार 2 दिसंबर 2022 को मिला ।

संवेदनशील मुख्यमंत्री की दूरगामी सोच का परिणाम है कि विधानसभा में विशेष सत्र बुलाकर अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ावर्ग सहित अन्य वर्गों को फायदा पहुंचाने वाला संशोधित विधेयक पास हुआ दूसरी तरफ भाजपा ने आदिवासियों व अन्य वर्गों को दिग्भर्मित कर उनकी हमेशा उपेक्षा की है।

विज्ञापन Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!